आज का जीवन मंत्र: बच्चों का डर खत्म करना है और आत्मविश्वास जगाना है तो उन्हें ईश्वर से जोड़ देना चाहिए

  • Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Dharm
  • Aaj Ka Jeevan Mantra By Pandit Vijayshankar Mehta, Motivational Story Of Mahatma Gandhi’s Childhood, Significance Of Devotion In Our Life

5 दिन पहलेलेखक: पं. विजयशंकर मेहता

  • कॉपी लिंक

कहानी – महात्मा गांधी के बचपन से जुड़ा किस्सा है। बालक मोहनदास को छोटी-छोटी बातों में बहुत डर लगता था। एक कमरे से दूसरे कमरे में जाना हो और अगर अंधेरा हो तो मोहनदास नहीं जा पाते थे।

एक दिन अपने ही घर में मोहनदास को कमरे से बाहर जाना था और वे अपना पैर कमरे से बाहर निकालने ही वाले थे, तभी उन्हें लगा कि बाहर भूत है और जैसे ही मैं बाहर निकलूंगा, भूत मुझे पकड़ लेगा। उनके चेहरे पर घबराहट आ गई, पसीना निकलने लगा। वे सोचने लगे कि पैर निकालूं या नहीं।

उस समय दरवाजे के बाहर एक दाई खड़ी थी, जिनका नाम रंभा था। रंभा ने पूछा, ‘मोहनदास, बेटा क्या बात है?’

मोहनदास बोले, ‘दाई मुझे डर बहुत लगता है, ऐसा लगता है, जैसे भूत मुझे पकड़ लेगा।’

रंभा बोलीं, ‘अगर डर लगता है तो राम का नाम ले लिया करो।’

मोहनदास ने राम नाम बोला और कमरे से पैर बाहर निकालकर बिना डरे चल दिए। जब ये बालक बड़ा हुआ तो संसार इन्हें मोहनदास करमचंद गांधी के नाम से जानने लगा।

गांधी जी कहा करते थे, ‘मेरे लिए राम नाम आत्मविश्वास का आधार बन गया है।’

एक दाई ने गांधी जी को बहुत बड़ा सूत्र दे दिया था।

सीख – हमें अपने बच्चों को अगर निर्भय बनाना है, उनका आत्मविश्वास जगाना है तो उन्हें ईश्वर से समय रहते जोड़ देना चाहिए। ईश्वर अंधविश्वास नहीं है, आत्मविश्वास का दूसरा नाम है। ईश्वर के नाम में भी मंत्रों जैसे शक्ति होती है। मंत्र शक्ति जब हमारे शरीर में उतरती है तो कुछ ऐसे हार्मोनल चेंजेस होते हैं, जिनसे हम निर्भय हो जाते हैं।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply